October 31, 2020

निर्भया के चारों दोषियों को आज 5:30 पर दी गई फांसी

नई दिल्ली – देश को झकझोर देने वाले निर्भया मामले में चारों दोषियों पवन गुप्ता , विनय शर्मा , अक्षय कुमार , मुकेश सिंह को  7 साल की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद आखिर आज सुबह 5:30 बजे ही दे दी गयी 

क्या था मामला 

2012 दिल्ली सामूहिक बलात्कार मामला भारत की राजधानी दिल्ली में 16 दिसम्बर 2012 को हुई एक बलात्कार तथा हत्या की घटना थी, जो संचार माध्यम के त्वरित हस्तक्षेप के कारण प्रकाश में आयी। 30 दिसम्बर 2012 को उसका शव दिल्ली लाकर पुलिस की सुरक्षा में जला दिया गया।

किन किन लोगों ने अहम भूमिका निभाई

  • एसडीएम उषा चतुर्वेदी 21 दिसंबर 2012 को निर्भया से मिलीं थीं, उन्होंने निर्भया का बयान लिया था

  • एसआई प्रतिभा शर्मा इस केस को हैंडल कर रहीं थीं, पहले दिन से लेकर निर्भया कोसिंगापुर रेफर करने तक वे रोज उससे मिलती थीं

  • डॉ. अरुणा बत्रा निर्भया की सर्जरी करने वाली टीम में थीं, उन्होंने 19 दिसंबर को पहली बार निर्भया को देखा था

  • डॉ. असित बी आचार्या ने ओडोंटोलॉजी रिपोर्ट तैयार की थी, इसी रिपोर्ट की बदौलत निर्भया के शरीर पर मिले दांतों के निशानों का दोषियों से मिलान हुआ था

  • डॉ. बीके महापात्रा के निर्देशन में दोषियों और पीड़ितका डीएनए एनालिसिस हुआ था, रिपोर्ट में दोषियों के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे

 

कौन कौन रहे पूरे मामले में दोषी कौन छूटा

  • निर्भया केस के 6 दोषियों में से एक ने खुदकुशी की, एक नाबालिग 3 साल की सजा काटकर छूट चुका है; बाकी 4 दोषियों को आज फांसी

  • सुपरिटेंडेंट का इशारा मिलते ही जल्लाद ने लीवर खींच दिया, चारों तब तक लटके रहे, जब तक मेडिकल ऑफिसर उनकी मौत की पुष्टि नहीं की

    क्या क्या हुआ था कुछ घण्टे पहले तक 

किन किन लोगों ने अहम भूमिका निभाई

  • एसडीएम उषा चतुर्वेदी 21 दिसंबर 2012 को निर्भया से मिलीं थीं, उन्होंने निर्भया का बयान लिया था

  • एसआई प्रतिभा शर्मा इस केस को हैंडल कर रहीं थीं, पहले दिन से लेकर निर्भया कोसिंगापुर रेफर करने तक वे रोज उससे मिलती थीं

  • डॉ. अरुणा बत्रा निर्भया की सर्जरी करने वाली टीम में थीं, उन्होंने 19 दिसंबर को पहली बार निर्भया को देखा था

  • डॉ. असित बी आचार्या ने ओडोंटोलॉजी रिपोर्ट तैयार की थी, इसी रिपोर्ट की बदौलत निर्भया के शरीर पर मिले दांतों के निशानों का दोषियों से मिलान हुआ था

  • डॉ. बीके महापात्रा के निर्देशन में दोषियों और पीड़ितका डीएनए एनालिसिस हुआ था, रिपोर्ट में दोषियों के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे

 

किन किन लोगों ने अहम भूमिका निभाई

  • एसडीएम उषा चतुर्वेदी 21 दिसंबर 2012 को निर्भया से मिलीं थीं, उन्होंने निर्भया का बयान लिया था

  • एसआई प्रतिभा शर्मा इस केस को हैंडल कर रहीं थीं, पहले दिन से लेकर निर्भया कोसिंगापुर रेफर करने तक वे रोज उससे मिलती थीं

  • डॉ. अरुणा बत्रा निर्भया की सर्जरी करने वाली टीम में थीं, उन्होंने 19 दिसंबर को पहली बार निर्भया को देखा था

  • डॉ. असित बी आचार्या ने ओडोंटोलॉजी रिपोर्ट तैयार की थी, इसी रिपोर्ट की बदौलत निर्भया के शरीर पर मिले दांतों के निशानों का दोषियों से मिलान हुआ था

  • डॉ. बीके महापात्रा के निर्देशन में दोषियों और पीड़ितका डीएनए एनालिसिस हुआ था, रिपोर्ट में दोषियों के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे

 

  • 6:30 बजे पटियाला हाउस कोर्ट के खिलाफ याचिका
  • 9:30 बजे दिल्ली हाइकोर्ट में सुनवाई शुरू 
  • 10:30 पवन गुप्ता की दया याचिका ख़ारिज होने के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका
  • 12 बजे दिल्ली हाइकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी
  • 12:30 दोषियों के वकील ने कहा हम सुप्रीम कोर्ट जाएंगे
  • 1:30 बजे पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज होने के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका 
  • 2:30 से 3:30 तक एक घंटे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चली 
  • 4 बजे दोषियों को जगाया गया व नहलाया गया 
  • 5 बजे  फांसी से पहले सभी से अंतिम इच्छा पूँछी गयी 
  • 5:20 फांसी फंदा डाला गया व सभी दोषियों के पांव बांधे गए 
  • 5:30 बजे मजिस्ट्रेट के इशारे के साथ ही जल्लाद ने लीवर खींच दिया 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: