Thu. Nov 21st, 2019

ग्रामीणों ने किया चौकी का घेराव

ग्रामीणों ने किया चौकी का घेराव
चेकिंग के दौरान रोक लिया था युवक को
ग्रामीणों ने लगाया चौकी इंचार्ज पर आपरो
चेकिंग के वजह दे दावा ले कर नहीं पहुच पाया युवक
पीड़ित की भाभी की हो गई मौत

एंकर-जैसा की आप सभी को पता है कि शासन के आदेशानुसार प्रदेश की पुलिस के द्वारा अपने-अपने जनपदों में प्रतिदिन शाम होते ही चेकिंग अभियान चलाया जाता है इसी के तहत आज देर शाम चेकिंग का कार्यक्रम पुलिस के द्वारा चलाया जा रहा था उसी चेकिंग में एक युवक अपनी बीमार भाभी की दवाओं को लेकर जा रहा था और वही पुलिस के द्वारा उस युवक को रोक लिया गया रुकने के बाद उसे काफी देर तक संबंधित चौकी में भी बैठा कर रखा गया इसी देरी के चलते और दवाइयों के अभाव से उस युवक की भाभी की मृत्यु हो गई जिससे गुस्साए ग्रामीणों ने संबंधित चौकी का घेराव करते हुए नारेबाजी की-आपको बता दें कि पूरा मामला बांदा जनपद के कमासिन थाना क्षेत्र अंतर्गत सिंहपुर गांव का है जहां रोज की भांति पुलिस के द्वारा चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था तभी एक युवक वहां से गुजरा तो उसे पुलिस ने रोक लिया वह युवक हेलमेट नहीं लगाए हुए था जिस बात को लेकर पुलिस के द्वारा उसे एक ₹1000 का चालान काट दिया गया उस युवक ने बताया कि मैं अपनी भाभी की दवा लेकर जा रहा हूं जो कि अस्पताल में जिंदगी और मौत से लड़ रही है लेकिन पुलिस ने उस युवक की एक भी बात नहीं सुनी और उस युवक को ले जाकर घंटों चौकी में बैठा रखा थोड़ी देर बाद युवक के परिजनों के द्वारा उसे फोन में बताया गया कि उसकी भाभी की मौत हो चुकी है इतना सुनते ही सभी ग्रामीणों में आक्रोश पैदा हो गया जिसके चलते सभी ग्रामीणों ने सिंह पुर चौकी का घेराव किया और नारेबाजी की प्रदर्शन इतना उग्र था कि उसको देखते हुए बबेरू शिव अपने लाव लश्कर के साथ मौके पर पहुंचे और मामले को समझते हुए ग्रामीणों की भीड़ को हटवाने का काम किया-वहीं पूरे मामले की जानकारी देते हुए बबेरू के क्षेत्राधिकारी कुलदीप सिंह ने बताया कि जैसा की आप सभी लोगों को पता है कि शासन से हम लोगों को आदेश है कि प्रतिदिन शाम को चेकिंग अभियान चलाया जाए उसी के तहत हम लोग चेकिंग अभियान चला रहे हैं और रही बात उस युवक की मां का तो फिलहाल ऐसा कोई मामला नहीं है कि उस युवक की भाभी दवा के अभाव से मरी हो मामला केवल इतना है कि पुलिस के द्वारा कुछ दिनों पहले वही के ग्राम प्रधान के ऊपर अन्ना जानवरों को छोड़ने के जोड़ों में एक संख्या उन पर चालान किया गया था उसी के चलते प्रधान के द्वारा षड्यंत्र रच कर चौकी का घेराव किया गया है फिलहाल घेराव करने वालों पर कार्यवाही की जाएगी और पूरे मामले की जांच करने के बाद ही यह पता चल पाएगा कि आखिर में दोषी कौन है-कुलदीप सिंह (सीओ बबेरू बाँदा )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!
WhatsApp chat
%d bloggers like this: